Sad Shayari, seekh kar gyi hai vo mohabbat mujhse...

Sad Shayari, Breakup Shayari in Hindi | English With photo


 

सीख कर ✍️ गई है, वो मोहब्बत 😍 मुझसे...

जिससे भी करेगी 💏 बेमिसाल 💕 करेगी...!!

Seekh ✍️ Kar Gyi 👩 Hai, Vo Mohabbat ❣️Mujhse....
Jisse Bhi Karegi Bemisal 💕 Karegi...!

 

जब ये दिल टूटता है तो दुख होता है..

करके इश्क ये दिल रोता है!!

दर्द का एहसास तो तब होता है,


जिससे इश्क हो वो किसी और का होता है!!


"jab ye dil tootta hai to dukh hota hai..

karke ishq ye dil rota hai!!

dard ka ehsas to tab hota hai..

jisase ishk ho vo kisi aur ka hota hai!!"





हर तन्हा रात में एक नाम याद आता है,

कभी सुबह कभी शाम याद आता है,

जब सोचते हैं कर लें दोबारा मोहब्बत,

फिर पहली मोहब्बत का अंजाम याद आता है।


"Har Tanha raat Mein ek naam yaad aata Hai,

Kabhi Subhah To Kabhi Sham Yad ata Hai!

Jab Sochte Hain Kar Lein Dobara Mohabbat,

Fir Pehli Mohabbat Ka anjam yaad aata Hai!!"





मोहब्बत के बाद मोहब्बत करना तो मुमकिन है!

लेकिन किसी को टूट कर चाहना,

वो ज़िन्दगी में एक बार ही होता है!!


"Mohabbat ke baad mohabbat karna to mumkin hai!

lekin kisi ko toot kar chahana,

vo zindagi mein ek baar hi hota hai!!"






बिछड़ कर आप से हमको ख़ुशी अच्छी नहीं लगती,

लबों पर ये बनावट की हँसी अच्छी नहीं लगती!!

कभी तो खूब लगती थी मगर ये सोचते हैं हम,

कि मुझको क्यों मेरी ये ज़िन्दगी अच्छी नहीं लगती!!!


"Bichhad kar ap se hamako khushi achchhi nahin lagati,

labon par ye banavat ki hansi achchhi nahin lagati!!

kabhi to khoob lagati thi magar ye sochate hain ham,

ki mujhako kyon meri ye zindagi achchhi nahin lagati!!!"








साँस थम जाती है पर जान नहीं जाती,

दर्द होता है पर आवाज़ नहीं आती!!

अजीब लोग हैं इस ज़माने में ऐ दोस्त,

कोई भूल नहीं पाता और किसी को याद नहीं आती!!!


"Sans Tham Jati Hai Par Jan Nahi Jati,

Dard Hota Hai Par Awaz Nahi ati!!

Ajib Log Hai Iss Zamane Mein

Koi Bhul Nahi Pata or Kisi ko yaad Nahi aati!!!"





हकीकत जान लो जुदा होने से पहले,

मेरी सुन लो अपनी सुनाने से पहले!!

ये सोच लेना भुलाने से पहले,

बहुत रोई हैं आँखें मुस्कुराने से पहले!!!


"Hakikat jan lo juda hone se pahale,

meri sun lo apani sunane se pahale!!

ye soch lena bhulane se pahale,

bahut roi hain ankhen muskurane se pahale!!!"






मुझे इश्क के लिए तेरी जरुरत नहीं!!

कुछ यादें और कुछ तस्वीरे छुपा रखी है दिल में!!!


"Mujhe Ishq Ke Liye Teri Jarurat Nahi!!

Kuchh Yadein Aur Kuchh Tasviren Chhupa Rakhi Hai Dil Me!!!






तेरे प्यार भरे लम्हो को अपने दिल पे लिखता हूँ..

मैं अपने कलम से लफ़्ज़ों को वेहिसाब लिखता हूँ!!

कभी तो बेवफा हमारे लिए भी दुआ कर लिया करो..

क्योंकि मैं भी तो अपनी हर एक सांस पर तेरा नाम लिखता हूँ!!!


" Tere pyar bhare lamho ko apane dil pe likhata hoon..

main apane kalam se lafzon ko vehisab likhata hoon!!

kabhi to bevapha hamare lie bhi dua kar liya karo...

kyonki main bhi to apani har ek sans par tera nam likhata hoon!!!"






  आज फिर याद आये,

      तुम उन बीते लम्हों में।

        आखिर वो लम्हे ही तो हैं,

           जिन्हें हम अपना बना पाए।


"aj Phir Yad aye..

  Tum Un bite Lamhon Mein!!

    akhir Wo lamhen Hi To hai..

      Jinhe Hum Apna Bana Paye!!!"





मेरी ज़िंदगी की सांस थम जाती है लेकिन मेरी जान नही जाती..

मुझे दर्द वे इन्तेहाँ होता है लेकिन आवाज़ नही आती!!

इस दुनिया के अजीब दस्तूर हैं..

हम उन्हें भूल नही पाते और उन्हें हमारी याद नही आती!!


"Meri zindgi ki saans tham jati hai,lekin jaan nahi jati..

Mujhe dard be-intehaan hota hai,lekin aavaj nahin aati!!

Is duniya ke ajeeb dastoor hai…

Hm unhe bhul nahi pate aur unhe hamari yaad nahi aati!!!"





दर्द है दिल में पर इसका एहसास नहीं होता,

रोता है दिल जब वो पास नहीं होता!!

बर्बाद हो गए हम उसके प्यार में,

और वो कहते हैं इस तरह प्यार नहीं होता...


"Dard hain dil mein par iska ehsas nahi hota,

Rota hain dil jab vo pas nahin hota!!

Barbad ho gae ham unki mohobbat mein,

Aur vo kehte hain ki is tarah pyar nahin hota.."






मैंने कभी किसी को आज़माया नही,

जितना प्यार दिया उतना कभी पाया नही!!

किसी को हमारी भी कमी महसूस हो,

शायद खूदा ने मुझे ऐसा बनाया नहीं!!!


"Hamne kabhi kisi ko azmaya nahi,

jitna pyar diya utna kabhi paya nahi!!

kisi ko hamari bhi kami mehsoos ho,

shayad aisa khuda ne hame banaya nahi!!!"







बिछड़ के तुम से ज़िंदगी सज़ा लगती है,

यह साँस भी जैसे मुझ से ख़फ़ा लगती है!!

तड़प उठता हूँ “दर्द” के मारे…

ज़ख्मों को जब तेरे शहर की हवा लगती है!!

अगर उम्मीद-ए-वफ़ा करूँ तो किस से करूँ,

मुझको तो मेरी ज़िंदगी भी बेवफ़ा लगती है…


"Bichhad ke tum se zindagi saza lagati hai,

yah sans bhi jaise mujh se khafa lagati hai!!

tadap uthata hoon “dard” ke mare…

zakhmon ko jab tere shahar ki hava lagati hai!!

agar ummeed- e -vafa karun to kis se karoon,

mujhako to meri zindagi bhi bevafa lagati hai.."







ख़त में मेरे ही ख़त के टुकड़े थे और..

मैं समझा के मेरे ख़त का जवाब आया है!!!


"Khat mein mere hi khat ke tukde thi aur..

main samjha ke mere khat ka jawab aaya hai!!"


Post a comment

0 Comments